Modern Theory of Rent | Hindi | Land | Økonomi

Les denne artikkelen på hindi for å lære om den moderne teorien om leie i økonomi.

लगान का आधुनिक सिद्धान्त रिकार्डो के लगान सिद्धान्त पर एक सुधार है। रिकार्डो केार भूमि्रकृति का निःशुल्क उपहार है सीमितता का गुणा हैा हैाकण भूमिर लगान प्राप्त होता है। आधुनिक अर्थशास्त्री रिकार्डो के इस कथन से णर्ण सहमत नहीं थे। उनके अनुसार भूमि के िकरिक्त लगान अन्य उत्पत्ति साधनों पर भी उपस्थित होा हैा हैर्ते साधन कीर्ति सापेक्षतः बेलोच हो।

आधुनिक थशर्थशास्त्रियों के अनुसार भूमिा प्रयोग केवलाज पैदा करने में ही नहींा जाता बल्कि भूमि के वैकल्पिक प्रयोग (Alternative Uses) सम्भव हैं। लगान के आधुनिक सिद्धान्त की व्याख्या करने का श्रेय प्रो. जे. एस. मिल (JS Mill) कोाता हैरन्तु इसका विकास जेवन्स, परेटो, मार्शल, श्रीमती जॉन रॉबिन्सन आदि ने किया।

इन अर्थशास्त्रियों के अनुसार आर्थिक लगान वह आय है जो उत्पादन के किसी साधन को पू क क व व व व व

इस आय को हस्तान्तरण आय (Overfør inntjening) भी कहते हैं। इस प्ररार, आधुनिकर्थशास्त्रियों के अनुसार सास्तविक आय एवं्तान्तरण आय का क्तर त लगान है।

संक्षेप में ,

लगान = वास्तविक आय - हस्तान्तरण आय

Leie = Faktiske inntekter - Overføringsinntekter

श्रीमती जॉन रॉबिन्सन केार, ”लगान के तथ्य का सार वह आधिक्य है जो किसी स साको उस काम पर लगाये खनेखने अति अति प।

स्टोनियर एवं हेग के शब्दों में, ”लगान वहाभुगत न जो हस्तान्तरण आय से अधिक होता है।”

सिद्धान्त का आधार ( Basis for teori):

लगान के आधुनिक सिद्धान्त का आधार साधनों की विशिष्टता (Spesifisitet av faktorer) है। वीज वीजर (Von Wieser)

निम निम्नलिखित है:

(i) पूर्णतया विशिष्ट साधन (perfekt spesifikke faktorer),

(ii) पूर्णतया अविशिष्ट साधन (perfekt ikke-spesifikke faktorer) |

जो साधन केवल एक ही्रयोग में लगाये जा सकते अथवा जिनका कोईापिक वैकल्पिक प्रयोग नहींा उनाहें पूर्णतया विशिष्ट साधन कहा

इसके विपरीत, अनेक पिक्पिक प्रयोग वाले उत्पत्ति केाधनों को णतयर्अविशिषा ​​अविशिष्ट साधन कहा जाता है। पूर्णतया अविशिष्ट साधन पूर्णतया गतिशील होते हैं।

वास्तविकता में उत्पत्ति का कोई भीाधन न तोर्णतः विशिष्ट होता है और न ही पूर्णतः अविशिष्ट। उत्पत्ति माधन में विशिष्टता एवं्टता दोनों क्रकार के गुण विद्यमान होते हैं। कोई साधन किसी समय विशेष में विशिष्ट होा हैा वहीा वहीाधन धनरे समय में में्अविशिष होा है।

उदाहरण के लिए, एक भू-खण्ड जिसमें गेहूँ की फसल खड़ी है, गेहूँ के प्रयोग के लिए पूर्णतया विशिष्ट णतया कोई ने ने ने ज ज ज ज -खण्ड को अब अनेक वैकल्पिक प्रयोगों में प्रयुक्त किया जा सकता है।

आधुनिक अर्थशास्त्रियों के अनुसार साधन की विशिष्टता लगान उत्पन्न करती है। एक साधन में्टता का अंशा अधिका उतना उतना ही अधिकालग उत्पन्न होगा।

 

Legg Igjen Din Kommentar