Isokostnadslinje: Med diagram | Hindi | Produksjonsfunksjon | Økonomi

Les denne artikkelen på hindi for å lære hvordan du kan utlede iso-kostnadslinjen på isoproduktskurven.

एक दी हुई सम-लागत रेखा एक दिये गयेाल व्यय (Kostnadsutlegg) के अन्तर्गत उपलब्ध दो्पत्ति साधनों के विभिन्न संयोगों को बताती है।

9. september RS, R 1 S 1 Rा R 2 S 2 उत्पादक के तीन लागत व्ययों (Kostnadsutlegg) को स्पष्ट करती हैं। RS गतागत व्यय Rs. 200 m कोाती बत। धन साधन X की प्रति इकाई कीमत P x है तो उत्पादक साधन X की अधिकता

OSर्थात् OS इकाइयाँ खरीद सकेगा।

S लागत व्यय Rs. 200 होने पर यदिाधन Y की प्रति इकाई कीमत P y होने की दशा में वह साधन Y की अधिकतम

अर्थात् ELLER इकाइयाँ खरीद सकेगा। इस प्रकार उत्पादक साप बिन्दु R तथा S के रूप में दो चतम्चतम साधन उपलब्धताएँ हैं। यदि इन दोनों बिन्दुओं कोा दिया जाये तो रेखा RS के रूप में हमेंाधन कीमत ेखेख समसम सम

स साधन X तथा साधन Y की कीमतें P x तथा P y स्थिर रहें तो लागत व्यय Rs. 400 होाने पर साधन कीमत रेखा R 1 S 1 तथा लागत व्यय Rs. 600 हो नेाने पर साधन कीमत रेखा R 2 S 2 हो जाती है। यह सभी साधन कीमत रेखाएँ परस्पर समानान्तर होंगी योंकि्योंकि साधनों की कीमत स्थिर रहते हुए लाव व्यय में परतनर्तन हो रहा है।

लागत व्यय जितना अधिक होगा, साधन कीमत रेखा उतनी ही ऊँची होगी अर्थात् साधन कीमत रेखा साधन कीमत स्थिर रहने पर लागत व्यय में वृद्धि के साथ मूल बिन्दु से दूर होती जायेगी (समानान्तर रूप से) तथा लागत व्यय में कमी होने पर समानान्तर रूप से मूलबिन्दु की ओर स्थानान्तरित होती जायेगी। दूसरे शब्दों मेंाधन कीमत धन्कीमतर रहने पर लागत व्यय का परिवर्तन, साधन-कीमत कीमतकीमत ल ेखाढ (Slope) में कोई परिवर्तन नहीं करता।

साधन कीमत रेखा का ढाल =

(ऋणात्मक चिन्ह केवल घटते ढाल का सूचक है, अतः हटाया जा सकता है।)

इस प्रकार, साधन कीमत रेखा का ढाल साधनों की कीमतों केात कोाता है (Helling av en isokostlinje indikerer forholdet mellom prisene på inngangene)।

साधन कीमत रेखा के दो्य परिवर्तित रूप हो सकते हैं।

निम निम्नलिखित हैं:

(1) लागत व्यय तथा साधन Y की कीमत स्थिर रहें किन्तु साधन X की कीमत में परिवर्तन (वृद्धि या कमी) हो जाये।

ऐसी दशा में यदि अन्य घटकों (लागत व्यय एवं साधन Y की कीमत) के स्थिर रहने पर साधन X अक में प दु दु बिन बिन बिन बिन -अक्ष वाला बिन्दु R अपनी जगह स्थिर रहेगा क्योंकि साधन X महँगा (Kostbart) हो जाने पर उत्पादक उसीागत व्यय से अब साधन X की कम मात्रा खरीद पायेगा [)]

अन्य घटकों के स्थिर रहते हुए साधन X की कीमत में कमी कीा मेंास कीमताधन कीमत रेखा का बिनाबिनबिनलप एगपहोनेदू होनेधनहोने धन धनाधन X कीात्रा खरीद पायेगा [देखेंदेखें 10 (B)] |

(2) लागत व्यय तथा साधन X की कीमत स्थिर रहे किन्तु साधन Y की कीमत में परिवर्तन (वृद्धि या कमी) हो जाये।

ऐसी दशा में साधन Y की कीमत में वृद्धि होने पर साधन कीमत रेखा का Y- अक्ष का बिन्दु R मूलबिना येगा जबकि धन धन धन क स ] |

धनाधन Y अक कीमत में कमी होने पर साधन कीमत रेखा का Y- अक्ष का बिन्दु R मूलबिन्दु से दूर R 2 पर स्थानान्तरित हो जायेगा जबकि X- अक्ष का बिन्दु थि हेग हेग देखें देखें

 

Legg Igjen Din Kommentar