Sør-Amerikas økonomiske natur | Hindi | Amerika | Økonomi

Les denne artikkelen på hindi for å lære om den økonomiske naturen i Sør-Amerika.

दक्षिण अमेरिका महाद्वीप उपजाऊ भूमि, घास के मैदान, जल एवं वन सम्पदा जैसे्राकृतिक साधनों से सम्पन्न है। इनके अलावा इस दाद्वीप में महत्वपूर्ण खनिजों के भी बहुत बडे रार हैं। इनाधनों धनोंार पर इसाद्वीप में उद्योगों का कैसास हुआास हुआ और महाद्वीप मेंातायात, व्यापार और जनजीवन केास की क्या स्थिति है?

कृषि:

दक्षिण अमेरिका के पूरे क्षेत्रफल में से कुल 10 år भूमि कृषि योग्य है। अधिकांश भाग अर्जेन्टाइना और उरूग्वे देशों मेंा है। मध्य चिली में भी उपजाऊ भूमि है। इसके साथ ही घास केानों में भी कृषि की जाती है, जो कम उपजाऊ हैं।

गेहूँ और मक्का दक्षिण अमेरिका के प्रमुख खाद्यान्न हैं। गेहूँ का उत्पादन शीतोष्ण जलवायु के षेत्षेत्रों में अधिक होता है। अर्जेन्टाइना और चिली प्रमुख गेहूँ उत्पादक देश हैं। मक्का का उत्पादन उष्ण जलवायु और पर्याप्त वर्षा वाले भागों मेंा है।

ब्राजील और अर्जेन्टाइना, मक्का के प्रमुख उत्पादक देश हैं। मूल रूप से मक्का दक्षिण अमेरिका की फसल है, जो दाद में संसार के अनेक देशों में पहुंची। मक्का के उत्पादन मेंार मेंरा स्थान ब्राजील का और चौथा स्थान अर्जेन्टाइना महाद्वीप की प्रमुख नगदी फसलों में कहवा (कॉफी), गन्ना, कोको और केला हैं। इनके अलावा अन्य नगदी फसलों में कपास, तम्बाकू, रबड़, फल और आलू हैं। सर्वाधिक कहवा उत्पादन केारण ब्राब कोा कहवा घर 'कहा जाता है।

दक्षिण अमेरिका मेंा और गन्ना के बड़े-बड़े रोपण-क्षेत्र हैं, जहाजह जहा भारी मात्रा त उत्पादन होता है।

कहवा (कॉफी) उत्पादन मेंार में्राजील का पहला और कोलम्बिया का दूसरा स्थान है। इसके अलावा इक्वेडोर, पेरू और सुरीनाम में भीा होता है। कपास के प्रमुख उत्पादक देश्राजील, अर्जेन्टाइना, पराग्वे और पेरू हैं। गन्ने का उत्पादन संसार में जील्राजील में सबसे अधिक है।

बोलीविया, गायना, पेरू, सुरीनाम और अर्जेन्टाइना में भी गला खूब होता है। इक्वेडोर, संसार का सबसे अधिका उत्पादन करने वाला देश है। दक्षिण अमेरिका में बड़े-बड़े फार्मों और बागानों केालिक कुछ गिने-चुने धनी व्यक्ति हैं। इनमें काम करने वाले खेतिहर मजदूरों (निर्धन वर्ग) की संख्या यहाँ अधिक है।

दक्षिण अमेरिका के प्रमुख कृषि उत्पादक देशोंर फसलों कीाीारी निम्नारार र:

Jeg. गेहूँ:

अर्जेन्टाइना, चिली, पराग्वे।

ii. चावल:

, ा, ब्राजील, इक्वेडोर, गायना, पेरू, सुरीनाम, उरूग्वे।

iii. मक्का:

ब्राजील, बोलीविया, इक्वेडोर, पराग्वे, अर्जेन्टाइना।

iv. आलू:

बोलीविया, इक्वेडोर, अर्जेन्टाइना, पराग्वे, पेरू।

v. रसीले फल:

अर्जेन्टाइना, चिली, इक्वेडोर, पराग्वे, सुरीनाम, उरूग्वे।

vi. केला:

इक्वेडोर, बोलीविया, ब्राजील।

vii. तम्बाकू:

ब्राजील, पराग्वे, उरूग्वे।

viii. कपास:

ब्राजील, अर्जेन्टाइना, पराग्वे, पेरू।

ix. कोको:

जील्राजील, इक्वेडोर।

x. गन्ना:

जील्राजील, इक्वेडोर, पेरू, सुरीनाम।

xi. रबर:

ब्राजील।

xii. सोयाबीन:

अर्जेन्टाइना, ब्राजील।

एवंालन एवं भेड़पालन उद्योग:

दक्षिण अमेरिका मेंास के बड़े-बड़े मैदान हैं, जिनमें पशुपालन एवंालन का कार्य उद्योग ूप रूप में बडेाने पर होता है। यह उद्योग महाद्वीप के्तर त ओरीनीको नदी कीाटी मेंानोज केास केामैद मेंावेनेजुएल देश होता है।

महाद्वीप के्य भाग मेंास केामैद में मेंा, ऊरूग्वे, पराग्वे और अर्जेन्टाइना में पशु एवंाएवं बडे पैमाने पर होता है। यहाँ गाय, बैल, भेड़, बकरी, सुअर तथा घोड़े पाले जाते हैं। पशुओं से्राप्त सामग्री में दूध, मांस, चमड़ा और ऊना भारी उत्पादन होने इनका निर्यात अर्जेन्टाइना, उरूग्वे, बोलीविया, पराग्वे त देशों देशों देशों यहाँ अर्जेन्टाइना सबसेा पशुपालक देश है और उरूग्वे ऊन्पादन मेंार में दूसरे स्थान पर है।

्स्य उद्योग:

दक्षिण अमेरिका महाद्वीप केारों ओर समुद्र तट होने यहाँ मछलियों के विपुल भंडार हैं। पश्चिम में प्रशांत महासागर के तटों पर मछलियाँ भारी मात्रा में मिलती हैं। पेरू में मछली पकड़ने का उद्योग बहुत विकसित है। पेरू संसार के्रणी मछली उत्पादक व यर्यातक देशों में हैं।

संसार के कुल मछली उत्पादन का पाँचवा भाग दक्षिण अमेरिका महाद्वीप से्राप्त होता है। इतनी मछलियों की खपताँ न होने सेारी मात्रा में्हें विदेशों को निर्यात किया जाता है। महाद्वीप के चारों ओर समुद्र तटों केरिक्त नदियों से भीाँ पकड़ी जाती हैं।

एवं एवं वनोद्योग:

दक्षिण अमेरिका का बहुता भाग वनों से ढँका है। अमेजन नदी की बेसिन में ण्ण कटिबन्धीय कठोर लकड़ी व वर्षा वन है। इन वनों में एक स्थान पर अनेक्रकार की लकड़ियों के पाये जाते हैं। अत: किसी एक्रकार की लकड़ी के पेड़ों कटाई में समय और श्रम अधिका हैा ढुलाई में भी अधिक व यय यय यय है

असुविधा के कारण लकड़ियों की कीमत बढ़ जाती है। इन वनों में घनापन और दल-दली भूमि होने सेागमन केाधनों का विकास नहीं हो पाया है। इन्हीं कारणों से इन वनोंा कर्ण उपयोग मानव हित में हो पा रहा है।

ब्राजील मेंा होनेाले कार्नोवा प्रजाति केाड़ वृक्ष से मोम्राप्त होता हैा उपयोगा पॉलिसा पॉलिस, फर्नीचर पॉलिस और मोमबत्ती बनाने में किया जाता। सिनकोना वृक्ष की छाल से कुनैनान दवा तथा चिकिल ष्ष से चुइंगमाई जाती है। अमेजन नदी कीाघ रटी वृक्ष का मूल्थान माना जाता है।

यहाँ जंगली रबड़ के वृक्ष प्राकृतिक रूप से भारी मात्रा में उगते हैं। घने जंगलों में ये वृक्ष रवृक अन्य वृक्षों के बीच-बीच में पाये जाते हैं। इससे रबड़ इकट्‌ठा करने में अधिक व्यय होता हैर यहाँ की रबड़ महंगी पड़ती है। संसार के अन्य भागों मेंागानों में रबड़ उगाई जाती है जो अपेक्षाकृत सस्ती होती है। इस कारण से्राब की रबड़ कीाँग घटतीा रही है।

मध्य चिली में भूमध्य सागरीय सदाबहार वनों में ओक, अखरोट, चेस्टनट, अंजीर के की्की लकड़ी के वन हैं जिनकी लकड़ी नीचर्नीचर में काम आती है। दक्षिणी चिली के शीतोष्ण मिश्रित वनों की चीड़ और बीच लकडियाँ भी उपयोगी हैं।

दक्षिणी अमेरिका के वनों के विशेष वृक्ष:

1. कार्नोवा जाति केात वृक्ष से मोम प्राप्त होता है।

2. सिनकोना के वृक्ष से कुनैन मिलती है।

3. चिकिल नामक वृक्ष से चुइंगम बनती है।

खनिज , ऊर्जा संसाधन एवं उद्योग:

दक्षिण अमेरिका केांश देश कृषि, खनिज पद्पदा और छोटे योगों्योगों रार अपने चहुंमुखी विकास का प्रयत्न कर रहे हे। बडे शहरों में खुल रहे नये-नये बडे कारखानों मेंाम करने हेतु अबाँवों ँवों लोग भी भी हे हे हे

दक्षिण अमेरिका में विविध्रकार के खनिजों के विशाल भंडार हैं। कच्चे लोहे केारी भंडार ब्राब में हैंा चिली, पेरू और वेनेजुएला मेंा उत्पादन होता है। संस संसार का सबसेा ताँबा उत्पादक एवं यर्यातक देश है। अर्जेन्टाइना, ब्राजील, इक्वेडोर, पेरू और वेनेजुएला में भीाँबा मिलता है। ब्राजील संसार का चौथा बड़ा बाक्साइट उत्पादक देश है।

दक्षिणी अमेरिका के वपू्वपूर्ण खनिजों के उत्पादन की सूची निम्नांकित हैं:

दक्षिण अमेरिका में उपरोक्त खनिजों केावा सीसा, जस्ता, पन्ना, गन्धक, एन्टीमनी, यूरेनियम, प्लेटिनम आदि का भी उत्पादन होता है। दक्षिण अमेरिका में जर्जा संसाधनों में खनिज तेल कृतिक्राकृतिक और जल विद्युत हेतु जल के केार हैं।

यद्यपि महाद्वीप में खनिजों का उत्पादन बहुत है ंतुरंतु उत्पादन कीा में खनिजों प og पारित उद्योगों की कमी है। महाद्वीप मेंाआव केाधनों का अभाव पूंजी की कमी और औ्ञान का अभाव इसके इसकेारण हैं। यहाँ से अनेक खनिजों का निर्यात किया जाता है।

उद्योग:

ब्राजील में बडे उद्योगों का विकास हुआ है। इनमेंरकार रर्निाण, पोतर्पोताण, ट्रेक्टर, कृषि्र, सीमेन्ट, वस्त्र, चीनी, तागज निर्मागज निा धातु और रसायन उद्योग प्रमुख हैं। ओपोलोाओपोलो, सेंटोस, रियोडीजेनरो प्रमुख औद्योगिक केंद्र हैं।

यातायात एवं व्यापार:

यातायात के साधनों की्टि टि्षिण अमेरिका एका हुआ महाद्वीप है। महाद्वीप के बहुत बड़ेाभ में उष्ण कटिबन्धीय घने औ और डीज्डीज वतमर्वतमाला का विस्तार होने के कारण यहाँ रेल व सड़क रार्गों का विकास बहुत कम हुआ है है

पठारी भागों और घास केानों में ऐसी ही स्थिति है। यातायात के स्थलीय साधनों केाव में बडे उद्योगों का विकास भी कम हुआ है। ब्राजील जैसे बडे और विकासशील देश में केवल्षिणी पूर्वी भाग में ही सड़कों औ विक विक विक स है औ औ वह वह ँ ँ योगों योगों

अर्जेन्टाइना में रेलमार्गों की सबसे अधिक लम्बाई है। ब्यूनसआयर्स (अर्जेन्टाइना) से लपेाइजोराइजो (चिली) जाने वाला ट्रांस ेलम रेलमार्ग संसार के ऊंचाई सेरगुज वाले रेलमार्गों में से एक है। महाद्वीप के अन्य देशों में भी यातायात का विकास कम है।

यातायात केास केाव मेंायह व्यापार का विकास भी कम हुआ है। महाद्वीप की्रसमुद तट रेखा बहुत बी्बी होने केारण जलमार्ग व्यापार का महत्वपूर्ण साधन है। महाद्वीप के बोलीविया और पराग्वे को छोड़ कर प्राय: सभी देशों में उपयोगी बन्दरगाह हैं।

कुछ महत्वपूर्ण व्यापारिक बन्दरगाहों में रियोडीजेनरो, सेंटोस, ब्यूनसआयर्स, मांटेवीडियो, ऐंटाफैगस्टा, वालपैराइजो, जार्जटाउन आदि हैं। बन्दरगाहों के अलावा ब्रासीलिया (ब्राजील की राजधानी), सेंटियागो (चिली की राजधानी), लीमा (ाहैंा कारा वरर यहाँ से भी आयात-निर्यात होता है।

प्रमुख निर्यातक वस्तुएँ:

, ा, कपास, कच्चा लोहा, लकड़ी, चीनी, तम्बाकू, पेट्रोलियम, ऊन, मांस, चमड़ा, बाक्साइट, शोरा, चाँदी, केला, कोको आदि।

मुख्रआय आयातक वस्तुएँ:

मशीनें, उपकरण, रसायन, कोयला, वस्त्र, दवाइयाँ, वाहन, खाद्यान्न आदि।

जनजीवन:

दक्षिण अमेरिका महाद्वीप में कुल 15 देश हैं। 37ाद्वीप की जनसंख्या 37 år og 18 år सेाख से अधिक है। महाद्वीप की कुल जनसंख्या की लगभग आधी थर्थात् 18 ोड़रोड़ 61 लाख केवल्राब में निवास करती

है। महाद्वीप की जनसंख्या का औसत्घनत 21 व्यक्ति प्रति वर्ग कि॰मी॰ है। घनी आबादी वाले क्षेत्र समुद्र तटीय भागों में अधिक हैं।

47 घनी जनसंख्या 47 व्यक्ति प्रति वर्ग कि॰मी॰ इक्वेडोर में है। महाद्वीप में धनी लोगों की संख्या कमर गरीब मजदूरों की अधिक है। अधिकतर लोग ग्रामों में निवास करते हैं। महाद्वीप में अमेरिकन, इंडियन, अश्वेत और यूरोपीय प्रजातियों के लोग रहते हैं। इन्रपातियों के मिश्रण से बनी प्रजातियों की संख्या भी अधिक है। इसमें इंडियन और यूरोपियन के मिश्रण से बनी टीजो्टीजो प्रजाति के लोगों संख संख्या सबसे अधिक है।

दक्षिण अमेरिका में रहने वाले लोग अनेकाषाएँ बोलते हैं। पु पुर्तगाली, जर्मन, स्पेनिश, इटेलियन और अंग्रेजी बोलने वालों की संख्या अधिक है। सुरीनाम में भारतीय लोग अधिक रहते हैं जो दी्दी बोलते

हैं। महाद्वीप के अधिकांश लोगाई धर्म को मानने वाले हैं, जिनमें रोमन कैथोलिक अधिक हैं।

 

Legg Igjen Din Kommentar